Satellite कैसे बनता है All Types | Satellite काम कैसे करता है - In HINDI


Satellite क्या है - हेलो दोस्तों स्वागत है आपका हमारे वेबसाइट में और आज हम बात करने वाले हैं सैटेलाइट क्या है सैटेलाइट कैसे काम करता है और इसकी पूरी जानकारी How Satellite Works With Full Information अपने कई बार इनके बारे में जानने की कोशिश किया होगा की सैटेलाइट क्या होता है ये हवा में कैसे टिके रहते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं की दैनिक जीवन में आप जितने भी काम करते हैं
 

 
Satellite कैसे काम करता है | Satellite क्या है | Full Information
 


उनमें से बहुत से काम ऐसे हैं जो किसी न किसी सैटेलाइट पर निर्भर है फिर चाए टीवी देख रहे हो या फिर टीवी पर मौसम का हाल देख रहे हो अपने मोबाइल में जीपीएस नेविगेशन का इस्तेमाल कर रहे हो या फिर अपने दोस्त के घर वालों को विदेश में कॉल करके बात कर रहे हो तो यह सभी काम किसी न किसी सैटेलाइट के भरोसे ही होती है और पहले हम जानलेते है। 


 

Satellite क्या है।

इसे आसानी से समझें जो एक छोटा ऑब्जेक्ट जो अपने से कहीं बड़े ऑब्जेक्ट के चारों तरफ अंतरिक्ष में चक्कर लगा रहा है वह सेट कहलाता है इसे हम हिंदी में उपग्रह भी कहते हैं इस हिसाब से हमारी पृथ्वी के चारों ओर चक्कर लगाने वाला चंद्रमा भी एक सैटेलाइट है लेकिन यह प्राकृतिक सैटेलाइट या उपग्रह है जो इंसान के हिसाब से नहीं चलता है लेकिन इसी से प्रेरणा लेकर इंसान ने अपने खुद के सैटेलाइट बनाकर उन्हें पृथ्वी की कक्षा में छोड़ दिए हैं जो हम इंसान के लिए बहुत बड़ी भूमिका निभा रहे हैं
 
  आपको बता दें कि मानव द्वारा निर्मित सैटेलाइट एक छोटे से टीवी के आकार से लेकर एक बड़े ट्रक के बराबर भी हो सकती है यहाँ इनकी साइज इनके काम पर निर्भर करती है सैटेलाइट के दोनों तरफ सोलर पैनल होती है जिससे इनको ऊर्जा यानी बिजली मिलती रहती है वहीं इनके बीच में ट्रांसमीटर और रिसीवर होती है जो सिंग्नल को रसिव या भेजने का काम करता है 

  इसके अलावा कुछ कंट्रोल मोटर भी होती है जिनकी मदद से हम सैटेलाइट को रिमोट से कंट्रोल कर सकते हैं इनकी स्थिति को चेंज करना हो या फिर एंगल चेंज करना हो सब इन कण्ट्रोल के जरिये क्र सकते है इसके अलावा सेटेलाइट को किस काम के लिए बनाया गया है वह ऑब्जेक्ट आपको सेटेलाइट में देखने को मिल जाती है जैसे उपग्रह को पृथ्वी की इमेज लेने के लिए बनाया गया है तो सैटेलाइट में बड़े कैमरे भी लगे होते है या फिर स्कैनिंग के लिए बनाया गया है
 
  तो उसमें स्केनर देखने को मिल जाएंगे यह सब सैटेलाइट के कार्य पर निर्भर करता है मुख तहत उपग्रह को हम कनिकेशन के लिए काम में लेते हैं क्योंकि रेडियो और ब्राउन वेर्ट धरती के पूरी कम्युनिकेशन में काम नहीं आ सकती है इसलिए ज्यादा तर सैटलाइट कम्युनिकेशन के काम के बनाए जाते हैं और अब हम जानेगें। 



Satellite कैसे काम करता है।

तो आपके मन में पहले सवाल जरूर आया होगा सैटेलाइट ऊपर कैसे टिके रहते हैं यह सब आप जान गए होंगे कि सैटेलाइट किया है सैटेलाइट क्या होता है लेकिन यहां पर सबसे बड़ा सवाल यही आता है की सैटेलाइट ऊपर हवा में कैसे टिके रहते है ये धरती पर गिरते क्यों नहीं है तो इसके लिए बहुत सिंपल नियम है जैसे :- अगर किसी चीज को अंतरिक्ष में रहना है तो उसे अपनी गति से किसी बड़े ऑब्जेक्ट का चक्कर लगाते रहना होगा इनकी स्पीड पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण बल को अपने ऊपर हावी नहीं होने देती है
 
  तो इस नियम के चलते ही सारे उपग्रह हवा में टिके रहते है सैटेलाइट तीन कैटेगरी में बाटे गए है लो अर्थ आर्बिट सैटलाइट ये उपग्रह पृथ्वी के कक्षा के काफी पास होते हैं इनकी ऊचाई 160 से 1600 किलोमीटर तक होती है यह काफी तेज गति से पृथ्वी के चक्कर लगाते हैं इसलिए यह दिन में कई बार पृथ्वी के चक्कर पूरे कर लेते हैं ऐसे में इन्हें धरती को स्कैन करने में बहुत काम समय लगता है 

  इनका ज्यादातर उपयोग इमेज और स्कैनिंग के लिए किया जाता है मीडियम अर्थ ऑब्जेक्ट सेटेलाइट ये वो उपग्रह होते है जो बहुत तेजी या स्लो स्पीड से चक्कर नहीं लगाती हैं ये करीब 12 घंटे में धरती का एक चक्कर पूरा कर लेती है यह उपग्रह किसी जगह से निश्चित समय से गुजरती है इनकी ऊंचाई 10000 किलोमीटर से 20000 किलोमीटर तक होती है
 
  इनका उपयोग नेविगेशन के लिए किया जाता है हेय अर्थ ऑर्बिट सैटेलाइट ये वो उपग्रह होते हैं जो धरती से बहुत दूर यानि करीब 36000 किलोमीटर की दूरी पर होती है यह उपग्रह पृथ्वी की स्पीड के साथ पृथ्वी का चक्कर लगाते हैं यानी ये उपग्रह अगर आपके ठीक ऊपर है वो हमेसा आपके ऊपर ही रहेगा इन उपग्रहों का उपयोग कम्युनिकेशन के लिए किया जाता है। 



दोस्तों अब आप जान गए होंगे कि सेटेलाइट क्या है ये सेटेलाइट क्या होता है इस पोस्ट से सेटेलाइट के बारे में काफी कुछ जानकारी मिल गई होगी हमारी भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो की बात करें तो हर साल नई कामयाबी हो रही है आपको जानकर हैरानी होगी भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो अबतक करीब 100 सैटेलाइट अंतरिक्ष में भेज चुके है और आपको यह पोस्ट केसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताइए।


धन्यवाद

 

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box

Previous Post Next Post