▼ Click this Ads to Remove this Box ▼

Refresh

Hot Widget

World Bank काम कैसे करता है | World Bank के पास पैसा कहां से आता है


World Bank क्या है - नमस्कार दोस्तों आप सभी का स्वागत है हमारे वेबसाइट पर जहां पर हम बात करते हैं आप के सवालों के बारे में जवाब ढूंढते उनके बारे में जो आप जानना चाहते हैं ताकि आपको गाइडेंस मिले और आप अपने करियर के इस जर्नी में डिसाइड कर पाए कि आपको क्या करना है तो आज इस पोस्ट में हम बात करेंगे वर्ल्ड बैंक की वर्ल्ड बैंक एक इंटरनेशनल ऑर्गेनाइजेशन है

 

World Bank क्या है | World Bank के पास पैसा कहां से आता है।



  यह तो आप भी जानते होंगे लेकिन वर्ल्ड बैंक कब बना क्यों बनाया गया और यह किस तरह काम करता है इस तरह की सारी इनफार्मेशन भी तो आपके पास होनी चाहिए ताकि आप वर्ड रिलेटेड नॉलेज पर भी अपडेट रहे और इसीलिए आज इस पोस्ट में आपको मिलने वाली है वर्ल्ड बैंक से जुड़ी सभी खास जानकारियां इसलिए इस पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढ़े तो चलिए शुरू करते है और सबसे पहले जानते हैं।

 
 

World Bank क्या है ?

वर्ल्ड बैंक एक इंटरनेशनल ऑर्गेनाइजेशन है जो विकासशील देशों को रिण देती है ताकि उन दोनों से गरीबी मिटाई जा सके इसका हेड क्वार्टर में है वर्ल्ड बैंक साधारण बैंक जैसा नहीं है बल्कि यह तो डेवलोपमेन्ट ट्यूशन से मिलकर बना है जिनमे से :-

  पहला - इन्तेर्नतिओन बैंक को रिकंस्ट्रक्शन एंड डेवलपमेंट यानी कि IBRD है जो लोन क्रेडिट और ग्रांट देता है

  दूसरा - इंटरनेशनल डेवलपमेंट एसोसिएशन यानी कि IDA जो कि लो इनकम कंट्रीज को लो इंटरेस्ट यानी कि नो इंटरेस्ट पर लोन देता है। 



World Bank की स्थापना कब हुई।

वर्ल्ड बैंक और इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड यानी कि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की स्थापना विश्व के नेताओं की एक सम्मेलन में साल 1944 में अमेरिका के ब्लड एंड गुड शहर में की गई थी इसलिए यह दोनों संस्थाएं वेतन बोर्ड के नाम से भी जानी जाती है

यह सम्मेलन 1 से 22 जुलाई 1944 तक चला और इसमें 44 देशों के प्रतिनिधि शामिल हुए वर्ल्ड बेस्ट बैंक फॉर रिकंस्ट्रक्शन एंड डेवलपमेंट ज्ञानी के अंतरराष्ट्रीय पुनर्निर्माण एवं विकास बैंक आईवीआरटी के नाम से भी जाना जाता है। 



वर्ल्ड बैंक की स्थापना क्यों की गई।

तो द्वितीय विश्व युद्ध के द्वारा विश्व की अर्थव्यवस्थाओं को बहुत नुकसान पहुंचा और इन अर्थव्यवस्थाओं को फिर से खड़ा करने की जरूरत महसूस की गई इसीलिए वर्ल्ड बैंक और आईएमएफ की स्थापना की गई और आईवीआरटी

यानि वर्ल्ड बैंक ने जून 1946 से काम करना शुरू कर दिया और बात करेगी वर्ल्ड बैंक के कितने सदस्य देश हैं तो वर्ल्ड बैंक के सदस्य देशों की संख्या 189 है सदस्य देश वर्ल्ड बैंक के शेयर होल्डर भी होते हैं और इस इंस्टिट्यूशन की नीतियों संबंधी फैसले भी करते हैं। 



World Bank को World Bank Group क्यों कहा जाता है।

तो वर्ल्ड बैंक एक अकेली संस्था नहीं है बल्कि इनमे पांच संस्थाएं शामिल है इसलिए इसे वर्ड बैंक ग्रुप भी खा जाता है हो सकता है कि आप यहां पर थोड़ा सा कंफ्यूज फील कर रहे हो क्योंकि थोड़े देर पहले हमने जाना कि वर्ल्ड बैंक में 2 संस्थाएं शामिल है और अब हम 5 संस्थाओं की बात कर रहे हैं

तो चलिए पहले तो ना यह कंफ्यूजन दूर कर लेते हैं असल में वर्ल्ड बैंक टर्म का इस्तेमाल आईवीआरटी और आईटीआई के लिए ही किया जाता है जबकि वर्ल्ड बैंक ग्रुप यानी कि WBG का इस्तेमाल के पांचों इंस्टीट्यूशंस के लिए किया जाता है तो अब आप जरूर समझ गए होंगे कि डिफरेंस बिटवीन फ्रॉम वर्ल्ड बैंक एंड द वर्ल्ड बैंक ग्रुप क्या है तो चलिए आगे बढ़ते हैं और जानते हैं। 



World Bank में शामिल संस्थाओं के क्या नाम है और यह किस तरीके से काम करती है ?


   1. International Bank for reconstruction and development - यानी की IBRD पुनर्निर्माण और विकास के लिए अंतरराष्ट्रीय पाए इस संस्था की स्थापना 1945 में हुई और इसका उद्देश्य मध्यम निकास वाले देशों और ग्रस्त गरीबों को ऋण गारंटी और गैर उधार सेवाएं दे रहा है ताकि ऐसे देशों के विकास को बढ़ावा मिले इसके सदस्य देशों की संख्या 189 है यहां से जान लेना भी जरूरी है कि वर्ल्ड बैंक ग्रुप की हर संस्था में सदस्यों की संख्या अलग-अलग है।


   2. International Finance Corporation - यानी कि IFC अंतर्राष्ट्रीय वित्त निगम इस संथा की स्थापना 1956 इसके सदस्य देशों की संख्या 184 है यह संस्था 100 से ज्यादा विकासशील देशों में नए बाजारों में कंपनियों और वित्तीय संस्थानों को नए रोजगार शुरू करने कॉरपोरेट एडमिनिस्ट्रेशन और एनवायरमेंट में सुधार करने जैसे बहुत से कार्य में सहायता करती है। 
 

   3. International Development Association - यानी की IDA अंतरराष्ट्रीय विकास संघ इस संस्था की स्थापना 1960 में हुई और इसके सदस्य देशों की संख्या 173 की यह वर्ल्ड बैंक का वह अंग है जो दुनिया के सबसे गरीब देशों की मदद करता है इस संस्था का उदेश आर्थिक विकास को बढ़ावा देना असमानता को कम करना और लोगों की जीवन थिति को बेहतर बनाने के लिए अनुदान देना है। 
 

   4. International Centre for statement of investment disputes - यानी कि ICSID निवेश विवादों के निपटारे के लिए अंतरराष्ट्रीय केंद्र जी हाँ 1965 में इस्टैब्लिश हुई यह संस्था इन्वेस्टमेंट बिट्टू को कम करने के लिए गोवेर्मेंट के साथ काम करती है इसका मुख्य उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय निवेश विवादों को दूर करने की सुविधाएं देना है 163 देश इसके सदस्य हैं। 


   5. multilateral investment guarantee agency - MIGA बहुपक्षीय निवेश ग्रंत्य एजेंसी इस संस्ता की सपना 1988 में हुई और 181 कंट्रीज इस के सदस्य है इसका मेन उद्देश्य विकासशील देशों में फॉरेन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट यानी कि विदेशी प्रत्यक्ष निवेश को बढ़ावा देना है ताकि ऐसे देशों के आर्थिक विकास में मदद मिल सके और गरीबी को कम करके लोगों के जीवन स्तर को बेहतर बनाया जा सके। 



World Bank के इंपोर्टेंट वर्क्स किया हैं ?

वर्ल्ड बैंक लौ इंटरेस्ट लोन इंट्रेस्ट फ्री क्रेडिट प्लान प्रोवाइड करता है ये बैंक, एडुटेशन, हेल्थ और इंफ्रास्ट्रक्चर को इंप्रूव करने पर फोकस करता है यह अपने पॉइंट्स का इस्तेमाल देशों के फाइनेंस सेक्टर एग्रीकल्चर और नेचुरल रिसोर्स मैनेजमेंट को मॉर्डनाइज करने में भी करता है तो आगे ये भी जान लेते हैं। 



World Bank के पास पैसा कहां से आता है ?

तो वर्ल्ड बैंक को विकास कार्यक्रमों के लिए जरूरी था जिस करके पैसा 2 तरीकों से जुटाना पड़ता है कुछ हिंसा रिच कंट्रीज की मदद से आता है और आईवीआरटी वित्तीय बाजारों में किसका बिजनेस और इंवेस्टमेंट करके भी थक जाता है तो कहने का मतलब यह है कि वर्ल्ड बैंक जो है ना वह बहुत बड़ा रोल प्ले करता है

  पूरी दुनिया में बहुत ही अच्छा लगा यह जानकर के तो दोस्तों वर्ल्ड बैंक से जुड़ी सारी जानकारियां हमें इस पोस्ट में अपने साथ शेयर करने की कोशिश की है हमें उम्मीद है की ये पोस्ट आपको पसंद आया होगा और आपकी नॉलेज बढ़ाने में काफी मदद करेगा यह पोस्ट आपको कैसा लगा कमेंट बॉक्स में लिखकर बताइए और रखिये अपना बहुत सारा ध्यान।



धन्यवाद


Post a Comment

0 Comments